अमेरिका 2019-20 में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बना

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान भारत का शीर्ष व्यापारिक भागीदार बना हुआ है।

यह लगातार दूसरा वित्तीय वर्ष है जब संयुक्त राज्य अमेरिका भारत का शीर्ष व्यापार भागीदार बन गया है (वित्तीय वर्ष 2018-19 में संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के शीर्ष व्यापारिक भागीदार बनने के लिए पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना से आगे निकल गया था), जो दोनों देशों के बीच लगातार बढ़ रहे आर्थिक संबंधों का संकेत देता है।

अमेरिका और भारत के बीच एक संभावित ट्रेड डील पर बातचीत चल रही है, उम्मीद है कि नवंबर 2020 में संयुक्त राज्य अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव से पहले, एक ट्रेड डील पर हस्ताक्षर किए जाने की सबसे अधिक संभावना है।

मुख्य बिंदु

भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार में 2019-20 वित्तीय वर्ष की तुलना में 2019-20 वित्तीय वर्ष में मामूली वृद्धि हुई है। 2018-19 में द्विपक्षीय व्यापर 87.96 बिलियन अमरीकी डॉलर था, जबकि 2019-20 में यह 88.75 बिलियन अमरीकी डॉलर हो गया है।

भारत ने अमेरिका में व्यापार अधिशेष को बरकरार रखा है क्योंकि वित्तीय वर्ष 2019-20 में संयुक्त राज्य अमेरिका का व्यापार घाटा 17.42 बिलियन अमरीकी डालर था। 2018-19 में संयुक्त राज्य अमेरिका का व्यापार घाटा 16.86 बिलियन अमरीकी डॉलर था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,