कनाडा में मारिजुआना (गांजा) का उपयोग वैध किया गया

कनाडा की संसद ने कैनबिस एक्ट (बिल सी -45) पारित किया है, जो एक ऐतिहासिक कानून है और इसके तहत मारिजुआना (गांजा) के मनोरंजक उपयोग को वैध बनाया गया है. कनाडा के लोग सितम्बर 2018 से कानूनी रूप से इसे खरीदने और उपभोग करने में सक्षम होंगे.

मुख्य तथ्य

दिसंबर 2013 में उरुग्वे में मारिजुआना के उत्‍पादन, बिक्री और खपत को वैध किया गया था और उसके बाद अब कनाडा ड्रग्स उपयोग को वैध करने वाला दुनिया का दूसरा देश बन चुका है. साथ ही यह कनाडा को पहला जी 7 देश बनाता है जो ड्रग्स मनोरंजक उपयोग को वैध करता है. विधेयक यह नियंत्रित करता है कि गांजा कैसे उगाया जा सकता है, वितरित या बेचा जा सकता है. कनाडा के लोग सितम्बर 2018 से कानूनी रूप से इसे खरीदने और उपभोग करने में सक्षम होंगे. नए कानून के अनुसार वयस्कों को सार्वजनिक रूप से 30 ग्राम तक सूखा गांजा रखने की इजाजत है, लेकिन गांजा खरीदने और उपभोग करने के लिए न्यूनतम कानूनी आयु 18 वर्ष की रहेगी. यदि कोई नाबालिग को गांजा बेचते हुये पकड़ा गया तो इस दशा में उसे यह 14 वर्षों तक जेल का कड़ा दंड प्रदान किया जाएगा.

मारिजुआना

मारिजुआना सूखे पत्तों का भूरे रंग का चूर्ण होता हैं. अधिकांश लोग इसके चूर्ण को चिलम में भरकर सिगरेट की तरह धूम्रपान करते हैं, हालांकि इसे अन्य रूपों जैसे कि खाने योग्य पाउडर और तेलों में भी इस्तेमाल किया जाता है. इसके समर्थक बताते है की यह कैंसर, तंत्रिका तंत्र रोगों, ग्लूकोमा, माइग्रेन इत्यादि जैसे चिकित्सा मुद्दों के लिए दर्द को नियंत्रित करने में प्रयोग में लाया जाता है, अत: यह कैंसर जैसी बीमारियों मे फायदेमंद भी है.

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , ,