केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का निधन

8 अक्टूबर, 2020 को केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्री श्री रामविलास पासवान का 74 वर्ष की आयु में निधन हो गया। उनकी दिल्ली के फोर्टिस अस्पताल में ह्रदय की सर्जरी हुई थी।

रामविलास पासवान

उन्होंने 2004 में लोक जनशक्ति पार्टी की स्थापना की। वह भारत के सबसे प्रसिद्ध दलित नेताओं में से एक थे। उनका जन्म बिहार के खगड़िया के शाहरबनी गाँव में हुआ था। उन्होंने कानून की डिग्री पूरी की और बिहार सिविल सेवा परीक्षा पास की। वह पुलिस उपाधीक्षक के लिए चुने गए थे। हालांकि, पासवान ने प्रस्ताव को अस्वीकार कर दिया और राजनीति में शामिल हो गए।

जब 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आपातकाल लगा दिया था उस से पासवान जेल गये थे। वह पहली बार लोकसभा में जनता पार्टी के सदस्य के रूप में निर्वाचित हुए थे। वह आठ बार लोकसभा के लिए चुने गए हैं। वे श्री जयप्रकाश नारायण के प्रबल अनुयायी थे। वे लोकदल के महासचिव भी बने।

पासवान ने 2010 से 2014 के बीच राज्यसभा के सदस्य के रूप में भी काम किया।

पासवान ने केंद्रीय मंत्री के रूप में सभी राष्ट्रीय गठबंधन के पांच प्रधानमंत्रियों के अधीन काम किया है। उनके नेतृत्व में वन नेशन वन राशन कार्ड योजना लागू की जा रही थी।

पासवान के बेटे चिराग पासवान भी राजनीति में सक्रिय रूप से शामिल हैं। वह लोक जनशक्ति पार्टी के वर्तमान अध्यक्ष हैं।

वन नेशन वन राशन कार्ड योजना

इस योजना के तहत, राशन कार्ड धारक किसी भी राशन की दुकान (सार्वजनिक वितरण आउटलेट) से सब्सिडी वाले खाद्यान्न प्राप्त कर सकते हैं। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत सब्सिडी वाला अनाज दिया जा रहा है। अगस्त 2020 तक, लगभग 24 राज्य इस योजना में शामिल हो गए थे।

योजना के प्रमुख लाभ निम्नलिखित हैं :

  • यह योजना और अधिक पारदर्शिता और दक्षता लाएगी
  • फर्जी राशन कार्डों की पहचान करने में मदद मिलेगी

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,