कोच्ची में किया जा रहा है विश्व सीमा शुल्क संगठन के क्षेत्रीय प्रमुखों की बैठक का आयोजन

विश्व सीमा शुल्क संगठन के क्षेत्रीय प्रमुखों की बैठक का आयोजन केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर व सीमा शुल्क बोर्ड द्वारा कोच्ची में 8 मई से 10 मई के बीच किया जा रहा है। इस बैठक में एशिया प्रशांत क्षेत्र के क्षेत्रीय अधिकारी हिस्सा ले रहे हैं। भारत एशियाई प्रशांत क्षेत्र में विश्व सीमा शुल्क संगठन का वाईस चेयर है। भारत को 1 जुलाई, 2018 को यह कार्य सौंपा गया था, भारत दो वर्ष तक एशिया प्रशांत क्षेत्र में विश्व सीमाशुल्क संगठन का वाईस चेयर रहेगा। इस बैठक में विश्व सीमाशुल्क संगठन द्वारा सुरक्षित सीमा पार व्यापार को बढ़ावा दिए जाने के लिए शुरू किये गये कार्यक्रमों व पहलों की प्रगति की समीक्षा की जायेगी। इस बैठक का अध्यक्षता केन्द्रीय अप्रत्यक्ष कर व सीमा शुल्क बोर्ड के चेयरमैन प्रणब कुमार दास द्वारा की जायेगी।

विश्व सीमा शुल्क संगठन

विश्व सीमा शुल्क संगठन स्वतंत्र अंतर्सरकारी संगठन है, इसका उद्देश्य शीमा शुल्क सम्बन्धी कार्य में कुशलता लाना है। इस संगठन की स्थापना 1952 में कस्टम्स को-ऑपरेशन कौंसिल के रूप में की गयी थी। विश्व सीमा शुल्क संगठन के मुख्यालय बेल्जियम के ब्रुसेल्स में स्थित है।

उद्देश्य

विश्व सीमा शुल्क संगठन का उद्देश्य सदस्य देशों को सीमा शुल्क सम्बन्धी कार्य में कुशलता प्राप्त करने में सहायता करना है, जिसके द्वारा सदस्य देश राष्ट्रीय विकास को लक्ष्य को प्राप्त कर सकें। इसके अतिरिक्त आधुनिक सीमा शुल्क व्यवस्था व विधियों को लागू करना व उनका प्रचार कर भी इसका प्रमुख कार्य है।

संगठन

विश्व सीमा शुल्क संगठन की कार्यशैली इसके सचिवालय पर निर्भर है, इसके अलावा विश्व व्यापार संगठन में कई तकनीकी व सलाहकार समितियां भी हैं। विश्व सीमा शुल्क संगठन में 100 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय अधिकारी, तकनीकी विशेषज्ञ तथा अन्य अधिकारी शामिल होता हैं। इस संगठन को 6 क्षेत्रों में बांटा गया है, प्रत्येक क्षेत्र का प्रतिनिधित्व विश्व व्यापार संगठन परिषद् में चुने गए उपाध्यक्ष द्वारा किया जाता है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,