ग्रामीण विकास मंत्रालय ने बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के साथ MoU पर हस्ताक्षर किये

हाल ही में केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्रालय तथा बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने MoU पर हस्ताक्षर किये हैं। इस MoU पर दीनदयाल अन्त्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत हस्ताक्षर किये गये हैं। इस MoU का उद्देश्य ज़मीनी स्तर पर ग्रामीण संस्थानों को मज़बूत बनाना है। इसके द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में रोज़गार का सृजन करके निर्धन व वंचित लोगों के जीवन को सुधारने के लिए प्रयास किया जाएगा।

दीनदयाल अंत्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान

दीनदयाल अंत्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान ग्रामीण क्षेत्रों में निर्धनता उन्मूलन के लिये भारत सरकार के ग्रामीण विकास विभाग के सबसे प्रमुख कार्यक्रमों में से एक है।

इसका लक्ष्य निर्धन ग्रामीण महिलाओं को खुद की संस्थाओं – सहायता समूह एवं उनके अन्य संघों जैसे- प्रोड्यूसर्स कलेक्टिव्स एवं ऐसे अन्य संघों में संगठित होने में मदद करने के आलावा उनको आजीविका एवं वित्तीय समावेशन में मदद करना भी है।

दीनदयाल अंत्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान का एक महत्त्वपूर्ण अंग निर्धन ग्रामीण युवकों को स्वरोज़गार और मजदूरी आधारित रोज़गार के लिये प्रशिक्षण प्रदान करना है। इसके लिये मंत्रालय दीनदयाल अंत्योदय योजना – राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका अभियान के तहत दीनदयाल उपाध्याय – ग्रामीण कौशल्य योजना (डीडीयू-जीकेवाई) को लागू कर रही है।

दीनदयाल उपाध्याय – ग्रामीण कौशल्य योजना एक रोज़गार से जुड़ी कौशल विकास योजना है जिसका उद्देश्य निर्धन ग्रामीण युवाओं के कौशल का विकास करना और उन्हें ज़्यादा मज़दूरी वाले अर्थव्यवस्था के क्षेत्रों में रोज़गार दिलवाना है।

बिल एंड मेलिंडा फाउंडेशन

यह एक निजी फाउंडेशन है, इसकी स्थापना बिल गेट्स तथा उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स द्वारा की गयी थी। इसकी स्थापना वर्ष 2000 में की गयी थी, यह सीएटल में स्थित है। यह विश्व की सबसे बड़ी परोपकारी संस्थाओं में से एक है। इसके तीन ट्रस्टी हैं : बिल गेट्स, मेलिंडा गेट्स तथा वारेन बफेट। यह संस्था विकासशील देशों में लोगों के स्वास्थ्य में सुधार करने तथा उनके जीवन स्तर को बेहतर बनाने के लिए कार्य करती है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,