जस्टिस मुकुल मुद्गल करेंगे द्रोणाचार्य व ध्यानचंद अवार्ड की चयन समिति की अध्यक्षता

जस्टिस मुकुल मुद्गल इस वर्ष द्रोणाचार्य व ध्यानचंद अवार्ड  की 11 सदस्यीय चयन समिति की अध्यक्षता करेंगे। यह अवार्ड 25 सितम्बर को राष्ट्रीय खेल पुरस्कार  समारोह के दौरान दिए जायेंगे।

ध्यानचंद अवार्ड : यह पुरस्कार किसी खिलाड़ी को लाइफ टाइम अचीवमेंट तथा किसी खेल में करियर के दौरान तथा संन्यास के बाद योगदान देने के लिए प्रदान किया जाता है।

द्रोणाचार्य अवार्ड : यह पुरस्कार कोच को उत्कृष्ट कार्य के लिए दिया जाता है।

समिति के अन्य सदस्य : समरेश जंग (राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता), अश्विनी पोंनप्पा (बैडमिंटन खिलाड़ी), जी. एस. संधू (पूर्व राष्ट्रीय बॉक्सिंग कोच), ए.के. बंसल (हॉकी कोच) तथा संजीव सिंह (आर्चरी कोच) । इनके अलावा इस समिति में भारतीय खेल प्राधिकरण के विशेष महानिदेशक ओंकार केडिया, संयुक्त खेल सचिव इंद्र धमीजा, दो खेल पत्रकार तथा टारगेट ओलिंपिक पोडियम स्कीम के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष कमांडर राजेश राजगोपालन शामिल हैं।

पृष्ठभूमि

राष्ट्रीय खेल पुरस्कार समारोह का आयोजन प्रत्येक वर्ष 29 अगस्त को हॉकी के महान खिलाड़ी मेजर ध्यान चंद के जन्म दिवस की याद में मनाया जाता है। परन्तु इस वर्ष राष्ट्रीय खेल पुरस्कार समारोह का आयोजन 25 सितम्बर, 2018 में किया जायेगा। दरअसल एशियाई गेम्स का समापन 2 सितम्बर, 2018 को हुआ और सभी खिलाड़ी उसमे व्यस्त थे,इसलिए राष्ट्रीय खेल पुरस्कार समारोह की तिथि में बदलाव किया गया।

जस्टिस मुकुल मुद्गल

जस्टिस मुकुल मुद्गल पंजाब व हरियाणा उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त मुख्य न्यायधीश हैं। इससे पहले सर्वोच्च न्यायालय ने उन्हें 2013 के चर्चित आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले की जांच के लिए भी नियुक्त किया था। वर्तमान में वे फीफा गवर्नेंस समिति और रिव्यु समिति के उपाध्यक्ष भी हैं। मुकुल मुद्गल क्रिकेट जगत में एक जाना माना नाम है, भारत में टेस्ट क्रिकेट को पुनर्जीवित करने और उसे लोकप्रिय बनाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,