जिनेथ बेदोया लीमा को यूनेस्को ने विश्व प्रेस स्वतंत्रता पुरस्कार के लिए चुना गया

वार्षिक यूनेस्को/गिलर्मो कैनो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम प्राइज़ एक व्यक्ति या संस्था को सम्मानित करता है जिसने प्रेस स्वतंत्रता को बढ़ावा देने में योगदान दिया है। यह पुरस्कार 1997 में गठित किया गया था और इसका नाम कोलंबिया के पत्रकार गिलर्मो कैनो इस्जा के नाम पर रखा गया था, जिनकी हत्या कर दी गई थी। यह पुरस्कार 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर प्रदान किया जाता है। इस वर्ष, कोलंबियाई खोजी पत्रकार जिनेथ बेदोया लीमा को 2020 यूनेस्को / गिलर्मो कैनो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम प्राइज़ के विजेता के रूप में नामित किया गया है। उनकी रचनाएं देश में सशस्त्र संघर्ष और महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा पर केंद्रित हैं।

यूनेस्को/गिलर्मो कैनो वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम पुरस्कार

यह पुरस्कार 1997 में संयुक्त राष्ट्र के सांस्कृतिक निकाय यूनेस्को द्वारा कोलंबियाई पत्रकार गिलर्मो कैनो इस्ज़ा के सम्मान में स्थापित किया गया था। यह दुनिया में कहीं भी प्रेस की स्वतंत्रता की रक्षा और प्रचार में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए व्यक्ति, संगठन या संस्था का सम्मान करता है। इसमें $ 45000 का नकद पुरस्कार दिया जाता है तथा इसे कोलंबिया स्थित कैनो फाउंडेशन और फिनलैंड स्थित हेलसिंगिन सनोमैट फाउंडेशन द्वारा वित्त प्रदान किया जाता है। गिलर्मो कैनो  (Guillermo Cano Isaza) एक कोलंबियाई पत्रकार थे जिनकी 17 दिसंबर 1986 को बोगोटा में अपने समाचार पत्र एल  एस्पेक्टोर के कार्यालय के सामने हत्या कर दी गई थी।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,