जैविक उत्पादन के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम : मुख्य बिंदु

केन्द्रीय उद्योग व वाणिज्य मंत्रालय ने जैविक उत्पादन के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम शुरू किया है, इसका उद्देश्य जैविक उत्पादकों को घरेलु तथा अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में जैविक उत्पादों की मांग को पूरा करने लिए बढ़ावा देना है।

उद्देश्य

केन्द्रीय उद्योग व वाणिज्य मंत्रालय वर्ष 2001 से इस कार्यक्रम का क्रियान्वयन कर रहा है, इसके मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित हैं:

  • जैविक कृषि तथा उत्पादों के लिए प्रमाणीकरण कार्यक्रम का मूल्यांकन करना।
  •  जैविक कृषि तथा जैविक प्रसंस्करण के विकास को बढ़ावा देना।
  • जैविक उत्पादों के लिए प्रमाणीकरण कार्यक्रमों को मान्यता देना।

इस कार्यक्रम का क्रियान्वयन कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) द्वारा किया जाता है। कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास जैविक उत्पादों के निर्यातकों को सहायता उपलब्ध करवाता है।

कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA)

कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) की स्थापना भारत सरकार ने दिसम्बर, 1985 में कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पादन निर्यात विकास प्राधिकरण अधिनियम के द्वारा की थी। इसकी स्थापना प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात संवर्धन परिषद् के स्थान पर की गयी थी। कृषि व प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) का मुख्य कार्य कृषि तथा सम्बंधित उत्पादों के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए कार्य करना है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , ,