नए सैटेलाइट सिस्टम के लांच के बाद रोसकॉसमॉस इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करेगा

रूस की सरकारी अन्तरिक्ष कारपोरेशन (रोसकॉसमॉस) ने “मैराथन” नामक सैटेलाइट सिस्टम के लांच के साथ इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करने की योजना तैयार की है। यह नया सैटेलाइट सिस्टम रूस के “स्फीयर” सैटेलाइट समूह का हिस्सा होगा, इसका निर्माण 2026 तक पूरा हो जायेगा। हालांकि मैराथन सिस्टम के कुल उपग्रहों की जानकारी अभी तक सार्वजनिक नहीं की गयी है।

पृष्ठभूमि

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने स्फीयर सैटेलाइट समूह परियोजना को मंज़ूरी दी है, इसमें लगभग 640 सैटेलाइट निर्मित किये जायेंगे। अमेरिका का इरीडियम सिस्टम काफी समय से वौइस् कम्युनिकेशन मार्केट में कार्य कर रहा है। जबकि वनवेब और स्टारलिंक सैटेलाइट सिस्टम ब्रॉडबैंड इन्टरनेट सेगमेंट में कार्य कर रहे हैं। सैटेलाइट कम्युनिकेशन का तीसरा सेगमेंट इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT) है।

इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT)

IoT कई डिवाइसेस जैसे स्मार्टफ़ोन, वेरेबल डिवाइसेस, होम एप्लायंसेज और वाहनों इत्यादि का नेटवर्क है, जिससे यह सभी डिवाइसेस आपस में जुड़ी होती है, इस प्रकार यह डिवाइसेस आपस में डाटा का आदान प्रदान कर सकती हैं। IoT में सुरक्षा को पुख्ता करने के लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा सकता है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,