नवीकरणीय उर्जा क्षेत्र में भारत की निवेश क्षमता 500-700 बिलियन डॉलर तक पहुंच गई है

इंस्टीट्यूट ऑफ एनर्जी इकोनॉमिक्स एंड फाइनेंशियल एनालिसिस ने एक अध्ययन प्रकाशित किया जिसके अनुसार भारत ने अक्षय/नवीकरणीय ऊर्जा निवेश की अपनी क्षमता को बढ़ाकर 500-700 बिलियन डॉलर कर दिया है। इसका मुख्य कारण देश में सौर ऊर्जा में सुधार है।

मुख्य बिंदु

इस अध्ययन के अनुसार, देश में अल्ट्रा-मेगा सोलर पार्कों ने विदेशी पूंजी को आकर्षित की है। राजस्थान का भादला सोलर पार्क दुनिया का सबसे बड़ा सोलर पार्क है। यह 14,000 एकड़ में फैला हुआ है। इस पार्क की उत्पादन क्षमता 2245 मेगावाट  है।

अल्ट्रा-मेगा पावर प्लांट

2016 में भारत द्वारा अल्ट्रा-मेगा सोलर पार्कों की अवधारणा को तैयार किया गया था। 2016 में नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय ने 20GW की क्षमता के साथ 40 औद्योगिक सौर पार्कों की स्थापना का लक्ष्य रखा था। यह लक्ष्य 2022 के लिए 40 गीगावॉट कर दिया गया है।

अल्ट्रा-मेगा सोलर पार्कों की अवधारणा में स्थानीय वितरण कंपनियां और राज्य सरकारें शामिल हैं। क्योंकि सौर पार्क स्थापित करने के लिए भूमि के बड़े क्षेत्रों का अधिग्रहण किया जाना आवश्यक होता है। और चूंकि भूमि एक राज्य का विषय है, इसलिए राज्य सरकारों को निश्चित रूप से इसमें शामिल होना चाहिए।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,