नासा ब्रह्माण्ड का अध्ययन करने के लिए ASTHROS मिशन लॉन्च करेगा

नासा दिसंबर 2023 में अंटार्कटिका से ASTHROS मिशन लॉन्च करेगा। यह मिशन तीन सप्ताह तक महाद्वीप के ऊपर वायु धाराओं का अध्ययन करेगा।

 

मुख्य बिंदु

ASTHROS मिशन स्ट्रैटोस्फियर में एक फुटबॉल स्टेडियम के आकार का गुब्बारा भेजेगा। यह गुब्बारा पृथ्वी से अदृश्य प्रकाश की तरंग दैर्ध्य का निरीक्षण करेगा। गुब्बारे में एक टेलिस्कोप, उप प्रणालियाँ, विज्ञान उपकरण, इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली और शीतलन प्रणाली होगी।

बैलून को हीलियम से फुलाया जायेगा। सुपरकंडक्टिंग डिटेक्टरों को -268.5 डिग्री सेल्सियस पर रखने के लिए एक क्रायोकूलर को गुब्बारे के साथ जोड़ा जायेगा।

मिशन के बारे में

यह मिशन विशालकाय सितारों की अनसुलझी पहेलियों और मिल्की वे गैलेक्सी में उनके गठन के बारे में उत्तर प्राप्त करेगा। पहली बार मिशन दो विशिष्ट प्रकार के नाइट्रोजन आयनों की उपस्थिति का पता लगाएगा और मैप करेगा।

ASTHROS क्या है?

ASTHROS का पूर्ण स्वरुप Astrophysics Stratospheric Telescope for High Spectral Resolution Observation as Sub millimetre wavelengths है। इस मिशन का संचालन नासा की जेट प्रोपल्शन लेबोरेटरी द्वारा किया जायेगा।

NASA के ASTHROS मिशन का उद्देश्य घनत्व, गति और गैस की गति का 3 डी मानचित्र बनाना है।

पृष्ठभूमि

यह वैज्ञानिक गुब्बारा कार्यक्रम 30 वर्षों से संचालित हो रहा है। पृथ्वी के विभिन्न स्थानों से अब तक लगभग 10 से 15 ऐसे मिशन लॉन्च किए गए हैं।

महत्व

अंतरिक्ष अभियानों की तुलना में बैलून मिशन कम लागत वाले हैं। उनकी योजना और तैनाती का समय तुलनात्मक रूप से कम है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , ,