नेताजी सुभाष चन्द्र के नाम पर पुलिस व अर्धसैनिक बलों को दिया जायेगा पुरस्कार : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नाम पुरस्कार दिए जाने की घोषणा की, यह पुरस्कार पुलिस तथा अर्धसैनिक बलों को प्रदान किया जायेगा। इसकी घोषणा प्रधानमंत्री मोदी ने पुलिस स्मरण दिवस के अवसर पर की। 21 अक्टूबर को प्रतिवर्ष पुलिस स्मरण दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पुलिस स्मरण दिवस

इस अवसर पर देश के लिए अपने जीवन की क़ुरबानी देने वाले पुलिसकर्मियों को याद किया जाता है। 1959 में चीनी सेना ने घात लगाकर लद्दाख में 10 पुलिस के जवानों की हत्या की थी। देश के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले पुलिसकर्मियों के सम्मान में दिल्ली के चाणक्यपुरी में 6.12 एकड़ भूमि पर राष्ट्रीय पुलिस स्मारक की स्थापना की गयी है। यह राष्ट्रीय पुलिस स्मारक देश की सभी राज्य के पुलिस बल तथा केन्द्रीय पुलिस संगठनों का प्रतिनिधित्व करता है।

सुभाष चन्द्र बोस

महान स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चन्द्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को ब्रिटिश भारत के कट्टक में हुआ था। आरंभ में वे कांग्रेस से जुड़े, 1938-39 के दौरान वे कांग्रेस के अध्यक्ष रहे। बाद में कांग्रेस में मतभेद के कारण उन्होंने कांग्रेस से त्यागपत्र दिया तथा फॉरवर्ड ब्लॉक की स्थापना की। उन्होंने आजाद हिन्द फ़ौज के द्वारा देश को स्वतंत्र करने का प्रयास किया।

आजाद हिन्द फ़ौज की स्थापना 21 अक्टूबर, 1943 में सिंगापुर में की गयी थी। इसकी स्थापना निर्वासित भारतीयों द्वारा की गयी थी। इसकी स्थापना में रास बिहारी बोस की भूमिका काफी महत्वपूर्ण थी। इसकी स्थापना नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के विचारों से प्रेरित होकर की गयी थी। यह एक सशस्त्र सेना थी, जिसका उद्देश्य भारत को ब्रिटिश नियंत्रण से मुक्त करना था। सुभाष चन्द्र बोस इस फ़ौज के सर्वोच्च कमांडर थे।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,