भारतीय सेना पुनः आरम्भ करेगी M777 होवित्ज़र तोप का ट्रायल

भारत सेना अमेरिका में निर्मित M777 होवित्ज़र तोप का ट्रायल राजस्थान की पोखरण फायरिंग रेंज में फिर से शुरू करने जा रही है। ट्रायल के दौरान 100-150 राउंड गोले दागे जायेंगे। सितम्बर 2017 में ख़राब गोला-बारूद की वजह  से बैरल फटने के कारण इस तोप का ट्रायल रोक दिया गया था।

M777 होवित्ज़र तोप

M777 155 mm, 39 कैलिबर की तोप है, इसका निर्माण BAE Systems नामक कंपनी द्वारा किया गया है। यह तोप काफी छोटी व हलकी है, यह टाइटेनियम और अलुमिनियम मिश्र धातु से बनी है। इसका वज़न केवल 4 टन है। इसकी फायरिंग रेंज लगभग 24 किलोमीटर है।

इस तोप में 155 mm का सभी प्रकार का गोला बारूद उपयोग किया जा सकता है। भारतीय सेना में होवित्ज़र तोप के शामिल होने से सेना की क्षमता में वृद्धि होगी। इस तोप को अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख जैसे क्षेत्रों में उपयोग किया जायेगा। इस तोप का इस्तेमाल अमेरिका, कनाडा और ऑस्ट्रेलिया की सेनाएं पहले से कर रही हैं।

पृष्ठभूमि

भारत ने नवम्बर 2016 में अमेरिकी सरकार के साथ $737 मिलियन राशी से 145 होवित्ज़र तोप खरीदने के लिए करारनामे पर हस्ताक्षर किये थे। 145 में से 25 तोपें आयात की जाएँगी, जबकि शेष 120 तोपें भारत में महिंद्रा ग्रुप की साझेदारी से यहीं पर असेम्बल की जाएँगी। इस तोप की डिलीवरी मार्च 2019 से शुरू होगी, 2021 तक यह कार्य पूरा हो जायेगा।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , ,