भारत और सिंगापुर के बीच फिनटेक के क्षेत्र में सहयोग के लिए MoU को कैबिनेट ने मंज़ूरी दी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय कैबिनेट ने भारत और सिंगापुर के बीच फिनटेक (वित्तीय टेक्नोलॉजी) के लिए MoU को मंज़ूरी दे दी है। इस MoU पर जून, 2018 में हस्ताक्षर किये गये थे।

मुख्य बिंदु

इस MoU के तहत दोनों देश फिनटेक से सम्बंधित रेगुलेशन, अनुभव तथा बेस्ट प्रैक्टिसेज को एक-दूसरे के साथ साझा करेंगे। इस संयुक्त वर्किंग समूह के तहत दोनों देशों के उद्यमी व स्टार्ट-अप्स मिलकर फिनटेक समाधान विकसित कर सकते हैं। इससे दोनों देशों में एप्लीकेशन प्रोग्रामिंग इंटरफेस के विकास, सुरक्षित भुगतान तथा डिजिटल कैश फ्लो को बढ़ावा मिलेगा।

इस सहयोग से रुपे, NETS, UPI-FAST पेमेंट लिंक, आधार स्टैक, तथा ई-KYC के एकीकरण को सहायता मिलेगी। इसे भारत और सिंगापुर के बीच डिजिटल गवर्नेंस तथा वित्तीय समावेश को बढ़ावा मिलेगा।

फिनटेक (वित्तीय टेक्नोलॉजी)

यह नवीन व नवोन्मेष टेक्नोलॉजी है जिसके द्वारा वित्तीय सेवाएं उपलब्ध करवाई जाती हैं। स्मार्टफ़ोन के द्वारा बैंकिंग, निवेश, तथा क्रिप्टोकरेंसी इत्यादि फिनटेक के कुछ उदहारण है। फिनटेक की सहायता से बड़ी जनसँख्या तक वित्तीय सेवाएं उपलब्ध करवाई जा सकती है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , ,