भारत में प्र्त्यक्ष विदेश नीति 61.96 अरब अमेरिकी डॉलर तक पहुँची

औद्योगिक नीति और संवर्धन विभाग (डीआईपीपी) के अनुसार, 2017-18 में भारत में विदेशी प्रत्यक्ष निवेश (एफडीआई) 61.96 अरब अमेरिकी डॉलर हो गया है. पिछले वित्त वर्ष में 60 अरब अमेरिकी डॉलर का निवेश हुआ था. पिछले चार वर्षों में विदेशी पूंजी निवेश 152 अरब अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 222.75 बिलियन अमरीकी डालर तक पहुंच गया है.

मुख्य बिंदु

अधिकतम एफडीआई प्राप्त करने वाले मुख्य सेवा क्षेत्र कंप्यूटर सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर, दूरसंचार, निर्माण, व्यापार और ऑटोमोबाइल रहे. भारत के विदेशी निवेश के प्रमुख स्रोतों में मॉरीशस, सिंगापुर, जापान, नीदरलैंड, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस और संयुक्त अरब अमीरात शामिल थे. हालांकि, हाल ही में UNCTAD (व्यापार और विकास एवं संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन) के मुताबिक, भारत में एफडीआई 2016 में 44 अरब अमेरिकी डॉलर से 2017 में 40 अरब अमेरिकी डॉलर हो गया. जबकि भारत से बाहर की ओर पूंजी के निवेश में दक्षिण एशिया मुख्य स्रोत है, जो कि दोगुने से भी अधिक बढ़ गया.

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,