भारत-सऊदी अरब द्विपक्षीय बैठक

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की भारत यात्रा के दौरान भारत और सऊदी अरब के बीच द्विपक्षीय वार्ता का आयोजन किया गया। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा सऊदी अरब के प्रिंस सलमान के बीच हुई द्विपक्षीय वार्ता के प्रमुख बिंदु निम्नलिखित हैं :

  • दोनों देशों ने उग्रवाद तथा आतंकवाद को सभी देशों को खतरा बताया तथा किसी विशेष धर्म, संस्कृत अथवा नस्ल से इसे जोड़ने को गलत ठहराया।
  • संयुक्त वक्तव्य में पाकिस्तान का नाम लिए बिना कहा गया कि आतंकवाद का उपयोग राष्ट्रीय नीति के औज़ार के रूप में नहीं किया जाना चाहिए।
  • इस वक्तव्य में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार के स्तर की व्यापाक सुरक्षा वार्ता तथा आतंकवाद को रोकने के लिए संयुक्त वर्किंग ग्रुप की स्थापना की बात कही गयी है।
  • सऊदी अरब ने भारत की कच्चे तेल व पेट्रोलियम उत्पादों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए प्रतिबद्धता ज़ाहिर की।
  • सऊदी अरब ने भारत के हज कोटा में 25,000 की वृद्धि की। अब भारत का हज कोटा बढ़कर 2 लाख तक पहुँच गया है।
  • सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की 2016 की सऊदी अरब यात्रा के बाद सऊदी अरब भारत में अब तक 44 अरब डॉलर  का निवेश कर चुका है। आने वाले समय में भारत में उर्जा, पेट्रोकेमिकल तथा विनिर्माण क्षेत्र में 100 अरब डॉलर का निवेश किया जा सकता है।

सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों पर आतंकवादी हमले की कड़ी निंदा की।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , , , ,