राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने किया 11वें अंतर्राष्ट्रीय आर्य महा सम्मेलन का उद्घाटन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिल्ली में 11वें अंतर्राष्ट्रीय आर्य महा सम्मेलन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने स्वामी दयानंद सरस्वती के योगदान पर प्रकाश डाला तथा उनके कार्यों की प्रशंसा की। इस सम्मलेन का आयोजन 25 से 28 अक्टूबर, 2018 के दौरान किया जायेगा। इस सम्मेलन में 30 से अधिक देशों के प्रतिनिधि हिस्सा ले रहे हैं।

आर्य समाज

आर्य समाज की स्थापना 7 अप्रैल, 1875 को दयानंद सरस्वती ने बॉम्बे में की थी। यह एक सुधारवादी आन्दोलन था। आर्य समाज द्वारा कई सामाजिक कार्य किये गये, आर्य समाज मूर्तिपूजा, अवतारवाद, बली, कमर्काण्ड तथा अंधविश्वासों को अस्वीकार करता है। यह केवल शुद्ध वैदिक परंपरा में विश्वास करता है। आर्य समाज आन्दोलन के द्वारा स्वामी दयानंद सरस्वती ने छुआछूत व जातिवाद को समाप्त करने के लिए प्रयास किया तथा समाज में स्त्रियों की दशा सुधारने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

स्वामी दयानंद सरस्वती

स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म 12 फरवरी, 1824 को गुजरात में हुआ था, वे एक धार्मिक नेता व समाज सुधारक थे। उन्होंने सुधारवादी आन्दोलन आर्य समाज की स्थापना की थी। उन्होंने “सत्यार्थ प्रकाश” नामक पुस्तक की रचना भी की थी। स्वामी दयानंद सरस्वती ने समाज में व्याप्त जातिवाद को समाप्त करने के लिए जीवनभर कार्य किया।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,