राष्ट्रीय कैंसर रजिस्ट्री कार्यक्रम रिपोर्ट, 2020

18 अगस्त, 2020 को इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च ने “नेशनल कैंसर रजिस्ट्री प्रोग्राम रिपोर्ट”, 2020 जारी किया। इस रिपोर्ट के अनुसार, भारत में कैंसर रोगियों की संख्या 2025 तक बढ़कर 15.7 लाख हो जाएगी।

मुख्य बिंदु

रिपोर्ट यह भी कहती है कि 2020 के अंत तक, देश में 13.9 लाख कैंसर रोगी होंगे। 2012 और 2016 के बीच 58 अस्पताल-आधारित कैंसर रजिस्ट्रियों और 28 जनसंख्या-आधारित कैंसर रजिस्ट्रियों से प्राप्त आंकड़ों के आधार पर रिपोर्ट का अनुमान लगाया गया है।

रिपोर्ट के मुख्य अंश

  •  2020 में तम्बाकू से संबंधित कैंसर भारत के कुल कैंसर बोझ का 27.1% है। इसमें गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर का 19.7% और गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का 5.4% शामिल है।
  • भारत में कैंसर होने की सबसे अधिक घटनाएँ उत्तर पूर्व क्षेत्र में देखी गई। इस रिपोर्ट के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में 0 से 74 साल के बीच के चार व्यक्तियों में से एक को कैंसर होने की संभावना है।

कैंसर होने की सम्भावना

पुरुषों में पेट, फेफड़े, मुंह और अन्नप्रणाली के कैंसर आम हैं। दूसरी ओर, महिलाओं में गर्भाशय ग्रीवा और स्तन के कैंसर आम है। स्तन कैंसर के सबसे अधिक मरीज़ चेन्नई, हैदराबाद, दिल्ली और बेंगलुरु में हैं।

कैंसर का इलाज

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में सर्जरी, कीमोथेरेपी और विकिरण चिकित्सा के संयोजन प्रमुख उपचार हैं। गर्भाशय ग्रीवा के कैंसर का आमतौर पर कीमोथेरेपी और रेडियोथेरेपी के साथ इलाज किया जाता है। फेफड़े और पेट के कैंसर का उपचार प्रणालीगत चिकित्सा से किया जाता है।

राष्ट्रीय कैंसर रजिस्ट्री कार्यक्रम

इस कार्यक्रम को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है। इस परियोजना का मुख्य उद्देश्य पूरे देश में फैले कैंसर रोगियों का अवलोकन करना है। साथ ही, इसका उद्देश्य देश में कैंसर की घटनाओं के अनुमानों की गणना करना है।

इस कार्यक्रम को “भारत में कैंसर के एटलस का विकास” भी कहा जाता है। भारत में कैंसर के प्रसार के बारे में इस तरह के एक एटलस या रिपोर्ट को पहली बार 2001-2002 में प्रकाशित की गयी थी।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,