रूस ने 12 अगस्त तक दुनिया का पहला COVID-19 वैक्सीन विकसित करने का दावा किया

रूस ने दावा किया है कि घातक COVID-19 बीमारी का इलाज करने वाला उसका पहला टीका 12 अगस्त, 2020 तक तैयार हो जाएगा। इस वैक्सीन को मास्को के गैमलेया संस्थान और रूसी प्रत्यक्ष निवेश कोष द्वारा विकसित किया जा रहा है।

मुख्य बिंदु

दवा नियामकों द्वारा पंजीकरण के 4 से 7 दिनों के भीतर उक्त टीका बड़े पैमाने पर खपत और उपयोग के लिए तैयार हो जायेगा। हालांकि, यहां मुख्य चिंता यह है कि इस टीके के परीक्षण से संबंधित आंकड़े सार्वजनिक नहीं किए गए हैं। यह वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावशीलता पर सवालिया निशान लगाता है।

अन्य रूसी टीके

इस टीके के अलावा, रूस द्वारा विकसित किये जा रहे COVID-19 वैक्सीन के लिए कुछ अन्य उम्मीदवार भी हैं। ऐसा ही एक टीका रूसी विषाणु विज्ञान संस्थान में मानव परीक्षण के दौर से गुजर रहा है। यह भी देखा गया है कि जिन स्वयंसेवकों पर टीके का परिक्षण किया गया है, वे सकारात्मक परिणाम दिखा रहे हैं।

वैश्विक परिदृश्य

रूस के अलावा, दुनिया भर के वैज्ञानिक इस घातक वायरस के लिए एक प्रभावी टीका विकसित करने की खोज में हैं। भारत में, दो टीके मानव परीक्षण चरण में हैं, जबकि ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित वैक्सीन भी मानव परीक्षणों से गुजर रहा है। चीन नावेल कोरोनवायरस का इलाज करने के लिए टीके भी विकसित कर रहा है जिसने दुनिया भर में 1.7 करोड़ से अधिक लोगों को प्रभावित किया है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,