श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने की संसद के विघटन की घोषणा

श्रीलंकाई राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना ने हाल ही में देश की संसद को विवाद के बीच विघटित कर दिया। पिछले दिनों श्रीलंकाई राष्ट्रपति ने रानिल विक्रमसिंघे के स्थान पर महिंदा राजपक्षे को देश का प्रधानमंत्री नियुक्त किया था, जिसके पश्चात् श्रीलंका में राजनीतिक संकट उत्पन्न हो गया था। इसके बाद 5 जनवरी, 2019 को आम चुनाव आयोजित किये जायेंगे।

पृष्ठभूमि

राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना के राजनीतिक मोर्चे यूनाइटेड पीपल्स फ्रीडम अलायन्स (UPFA) ने रानिल विक्रमसिंघे की पार्टी यूनाइटेड नेशनल पार्टी (UNP) के साथ गठबंधन की सरकार से अपने समर्थन वापस ले लिया। वर्ष 2015 में इस गठबंधन सरकार का निर्माण हुआ था, जब मैत्रीपाला सिरिसेना रानिल विक्रमसिंघे के समर्थन से राष्ट्रपति बने थे।
मैत्रीपाला सिरिसेना द्वारा महिंदा राजपक्षे को प्रधानमंत्री बनाये जाने पर श्रीलंका में संवैधानिक संकट खड़ा हो सकता है। श्रीलंकाई संविधान के 19वें संशोधन के मुताबिक विक्रमसिंघे को बहुमत के बिना पद से नहीं हटाया जा सकता था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , , ,