सरकार ने इंप्रिंट योजना के तहत 122 नए अनुसन्धान प्रोजेक्ट्स को दी मंज़ूरी

केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने 122 नए अनुसन्धान प्रोजेक्ट्स को मंज़ूरी प्रदान की। इंप्रिंट-II (Impacting Research Innovation and Technology) योजना के तहत इन प्रोजेक्ट्स के लिए 112 करोड़ रुपये की धन राशी आबंटित की गयी है। इन प्रोजेक्ट्स को इंप्रिंट-II की सर्वोच्च समिति द्वारा नई दिल्ली में आयोजित बैठक में स्वीकृत किया गया, इस बैठक की अध्यक्षता मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने की।

मुख्य बिंदु

उर्जा, स्वास्थ्य, सुरक्षा इत्यादि क्षेत्रों में उन्नत अनुसन्धान को बढ़ावा देने के लिए इन 122 प्रोजेक्ट्स को मंज़ूरी दी गयी। इन चुने गए प्रोजेक्ट्स में से 81 प्रोजेक्ट्स को उद्योगों द्वारा प्रायोजित किया जा रहा है। इनमे से 35 प्रोजेक्ट ICT, 18 एडवांस्ड मैटेरियल्स, 17 स्वास्थ्य टेक्नोलॉजी, 12 उर्जा सुरक्षा, 11 रक्षा, 9 धारणीय आवास, 7 जल संसाधन, 5 पर्यावरण व जलवायु, 4 विनिर्माण तथा 4 प्रोजेक्ट्स नैनोटेक्नोलाजी से सम्बंधित हैं।

इंप्रिंट स्कीम

इंप्रिंट स्कीम का उद्देश्य वैज्ञानिक और इंजीनियरिंग ज्ञान से कई समस्याओं का समाधान ढूंढना व देश में वैज्ञानिक अनुसंधान को बढ़ावा देना है। इस योजना को नवम्बर, 2015 में लांच किया गया है, इसके तहत 10 मुख्य कार्यक्षेत्र स्वास्थ्य, कंप्यूटर साइंस, एडवांस मैटेरियल, जल संसाधन, धारणीय विकास, रक्षा, नैनोटेक्नोलाजी, पर्यावरण विज्ञान व जलवायु परिवर्तन व उर्जा सुरक्षा हैं।

इंप्रिंट-I योजना में IIT और IISC को इंजीनियरिंग व टेक्नोलॉजी सम्बन्धी समस्याओं को चिन्हित करने के कार्य सौंपा गया था। अब इस योजना में निजी संस्थानों को भी शामिल किया गया है। इस योजना को केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय और विज्ञान व तकनीक विभाग द्वारा फण्ड किया जा रहा है। वर्त्तमान में इंप्रिंट-I योजना के तहत 142 प्रोजेक्ट्स को कार्यान्वित किया जा रहा है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,