2022 में प्रोटोटाइप फास्ट ब्रीडर रिएक्टर को कमीशन किया जायेगा

केंद्रीय परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री जितेंद्र सिंह ने कहा कि प्रोटोटाइप फास्ट ब्रीडर रिएक्टर अक्टूबर 2022 तक चालू हो जाएगा।

रिएक्टर के बारे में

  • इस रिएक्टर का निर्माण भारतीय नाभिकीय विद्युत निगम लिमिटेड (BHAVINI) और इंदिरा गांधी सेंटर फॉर एटॉमिक रिसर्च (ICGAR) द्वारा किया जा रहा है।
  • यह रिएक्टर एक बार चालू होने के बाद राष्ट्रीय ग्रिड में 500 मेगावाट बिजली जोड़ेगा।
  • इस रिएक्टर का निर्माण तमिलनाडु के चेन्नई में कलपक्कम परमाणु ऊर्जा स्टेशन में किया जा रहा है।
  • रिएक्टर को 2012 में चालू करने की योजना थी लेकिन तकनीकी त्रुटियों के कारण इसमें देरी हो रही है।

रिएक्टर की विशेषताएं

  • यह रिएक्टर एक पूल-प्रकार का रिएक्टर है जिसका कोर तरल (पानी) में डूबा हुआ है।
  • रिएक्टर में नकारात्मक शून्य गुणांक होता है इसलिए यह उच्च स्तर की परमाणु सुरक्षा प्रदान करता है।
  • रिएक्टर के अधिक गर्म होने पर विखंडन श्रृंखला प्रतिक्रिया की गति अपने आप कम हो जाती है। यह तापमान और शक्ति के स्तर को कम करता है।
  • इस रिएक्टर में तरल सोडियम शीतलक (कूलैंट) है।

भारत का तीन चरण का परमाणु कार्यक्रम

इसे होमी भाभा ने भारत के तटीय क्षेत्रों के मोनाजाइट रेत में पाए जाने वाले थोरियम और यूरेनियम के भंडार का उपयोग करके शुरू किया था। इस में ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए भारत में थोरियम भंडार का उपयोग किया जाता है। इस कार्यक्रम में तीन चरण शामिल हैं :

  1. चरण 1- प्रेशराइज्ड हैवी वाटर रिएक्टर
  2. स्टेज 2- फास्ट ब्रीडर रिएक्टर
  3. स्टेज 3- थोरियम बेस्ड रिएक्टर

वर्तमान में, भारत अपने कार्यक्रम के तीसरे चरण में है।

 

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , ,