25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया गया

विश्व मलेरिया दिवस (डब्लूएमडी) हर साल 25 अप्रैल को दुनिया भर में मलेरिया रोग नियंत्रण से जुड़े वैश्विक प्रयासों को पहचानने हेतु मनाया जा रहा है। विश्व मलेरिया दिवस 2018 का विषय ‘मलेरिया को हराने के लिए तैयार'(Ready to beat malaria) है। मलेरिया मच्छर से उत्पन्न होने वाली संक्रामक बीमारी है जो आमतौर पर संक्रमित मादा एनोफेलेस मच्छर के काटने से फैलती है। यह परजीवी प्रोटोजोंस (protozoans) के कारण होती है। यह परजीवी शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं (आरबीसी) को संक्रमित और नष्ट करके बढ़ता है। गंभीर मलेरिया के सामान्य लक्षणों में फ्लू, बुखार ,ठंड लगना ,असामान्य रक्तस्राव, एनीमिया आदि शामिल हैं। मलेरिया को शुरुआती इलाज से ही नियंत्रित किया जा सकता है।

पृष्ठभूमि

मई 2007 में विश्व मलेरिया दिवस की स्थापना विश्व स्वास्थ्य सभा के 60 वें सत्र में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निर्णय लेने वाले निकाय द्वारा की गई थी। यह मलेरिया से जुडी जागरूकता फैलाने के लिए स्थापित किया गया था।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,