EESL और विश्व बैंक ने नई दिल्ली में किया INSPIRE 2018 का आयोजन

INSPIRE 2018 (International Symposium to Promote Innovation & Research Efficiency – उर्जा दक्षता में नवोन्मेष व शोध कार्य को बढ़ावा देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी के द्वितीय संस्करण को नईं दिल्ली में लांच किया गया। इसका आयोजन उर्जा दक्षता सेवाएं लिमिटेड (EESL) तथा विश्व बैंक द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। इस तीन-दिवसीय इवेंट में ग्रिड प्रबंधन, ई-मोबिलिटी, वित्तीय उपकरण तथा भारत में उर्जा दक्षता को बढ़ावा देने के लिए तकनीकों पर चर्चा की गयी। #InnovateToINSPIRE के तहत उर्जा दक्षता तथा स्वच्छ उर्जा को बढ़ावा देने के लिए चार नवोन्मेषों को पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया।

मुख्य बिंदु

#InnovateToINSPIRE चैलेंज का आयोजन EESL और विश्व संसाधन संस्थान (WRI) द्वारा अगस्त-अक्टूबर, 2018 में INSPIRE 2018 के आयोजन से पहले किया गया था। इस चैलेंज में हिस्सा लेने के लिए प्रतिभागियों ने ग्रिड प्रबंधन, ई-मोबिलिटी, उर्जा दक्षता तकनीकों तथा वित्तीय उपकरणों से सम्बंधित विषयों पर सतत व उपयोग नवोन्मेषों को प्रविष्ठी के रूप में सबमिट किया था।

94 प्रविष्टियों में से चार विजेताओं को उर्जा क्षेत्र में भारतीय तथा अंतर्राष्ट्रीय विशेषज्ञों द्वारा चुना गया। विजेताओं को 5 लाख रुपये इनाम तथा EESL द्वारा उनके उत्पाद को बाज़ार में लाने में सहायता तथा मेंटरिंग प्रदान की जाएगी।

Energy Efficiency Services Limited (EESL)

EESL की स्थापना केन्द्रीय उर्जा मंत्रालय के अंतर्गत उर्जा दक्षता प्रोजेक्ट्स के लिए क्रियान्वयन में सहायता के लिए की गयी थी। यह NTPC, पॉवर फाइनेंस कारपोरेशन (PFC), ग्रामीण विद्युतीकरण कारपोरेशन (REC) और पॉवरग्रिड का संयुक्त उद्यम है। यह राष्ट्रीय उर्जा दक्षता मिशन (NMEEE) के बाज़ार सम्बन्धी कार्य भी करता है। यह राज्यों के डिस्कॉम की क्षमता निर्माण के लिए संसाधन केंद्र के रूप में कार्य करता है। यह देश में विश्व के सबसे बड़े उर्जा दक्षता पोर्टफोलियो का क्रियान्वयन कर रहा है।

Advertisement

Month:

Categories:

Tags: , , , ,