आयकर अधिनियम 1961

इस श्रेणी में आयकर अधिनियम 1961 से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

केंद्र ने घरेलु निवेशकों के लिए कॉर्पोरेट कर दर में कमी की

केंद्र सरकार ने अर्थव्यवस्था को गति देने के उद्देश्य से कॉर्पोरेट कर दरों में कटौती की है। मौजूदा घरेलु कंपनियों के लिए कॉर्पोरेट टैक्स दर को 34.94% से कम करके 25.17% किया गया है। नई घरेलु कंपनियों के लिए कॉर्पोरेट टैक्स दर 15% होगी। इसके लिए केंद्र सरकार ने आयकर अधिनियम, 1961 तथा वित्त (संख्या 2) अधिनियम, 2019 में संशोधन केRead More...

“डायरेक्ट टैक्स कोड” पर गठित टास्क फ़ोर्स के अपनी रिपोर्ट वित्त मंत्री को सौंपी  

केंद्र सरकार ने नए प्रत्यक्ष कर कोड (DTC) के निर्माण के लिए केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड के सदस्य अखिलेश रंजन की अध्यक्षता में एक टास्क फ़ोर्स का गठन किया था, इस टास्क फ़ोर्स ने अपनी रिपोर्ट केन्द्रीय वित्त मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण को सौंप दी है। इस टास्क फ़ोर्स के गठन का उद्देश्य 6 दशक पुराने आयकर अधिनियम,Read More...

सरकार ने स्टार्टअप्स के लिए नियमों में ढील दी

सरकार ने स्टार्ट-अप्स की परिभाषा के अंतर्गत नियमों में ढील है, निम्नलिखित क्षेत्रों में  परिवर्तन किया गया है : आयकर अधिनियम, 1961 में एंजेल इन्वेस्टर्स के लिए छूट की सीमा को 10 करोड़ से बढ़ाकर 25 करोड़ रुपये कर दिया गया है। पंजीकरण/स्थापना के बाद दस वर्ष तक किसी इकाई को स्टार्टअप माना जाएगा, पहले यह अवधि सात वर्षRead More...

भारत और चीन ने दोहरे कराधान बचाव समझौते पर हस्ताक्षर किये

भारत और चीन ने हाल ही में दोहरे कराधान बचाव समझौते पर हस्ताक्षर किये, इसका उद्देश्य कर चोरी की रोकथाम करना है। आयकर अधिनियम, 1961 के सेक्शन 90 के अनुसार भारत किसी अन्य देश के साथ दोहरे कराधान से बचाव के लिए समझौता कर सकता है। मुख्य बिंदु चीन के साथ दोहरे कराधान बचाव समझौते (DTAA) में संशोधन के चलते सूचना के आदान प्रदानRead More...

भारत और ईरान के बीच दोहरे कराधान समझौता को टालने की स्‍वीकृति

केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने भारत और ईरान के बीच दोहरे कराधान को टालने और वित्‍तीय करवंचना की रोकथाम के लिए समझौते को अपनी स्‍वीकृति दे दी है। यह समझौता उन्‍हीं तर्जों पर हैं जिन पर भारत ने अन्‍य देशों के साथ समझौता किया है। मुख्य तथ्य समझौते से निवेश, टेक्‍नोलॉजी तथा भारत से ईरान और ईरान से भारतRead More...