इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स

इस श्रेणी में इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

फ्यूचर स्किल्स : विप्रो और नैसकॉम 10,000 इंजीनियरिंग छात्रों को प्रशिक्षण देने के लिए लांच करेंगे प्लेटफार्म

देश के अग्रणी आईटी कंपनी विप्रो और नैसकॉम ने 10,000 इंजीनियरिंग छात्रों को प्रशिक्षण देने के लिए “फ्यूचर स्किल्स” नामक प्लेटफार्म लांच करने का निर्णय लिया है। इसके द्वारा छात्रों को आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स इत्यादि के बारे में छात्रों को प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा। फ्यूचर स्किल्स प्लेटफार्म यहRead More...

2023 तक भारत में प्रौद्योगिकी क्षेत्र में 30 लाख नौकरियों का सृजन होगा : ISF

इंडियन स्टाफिंग फेडरेशन (ISF) की टेक एम्प्लॉयमेंट प्रोजेक्शन्स के अनुसार अगले पांच वर्षों में भारत में प्रौद्योगिकी क्षेत्र में 30 लाख नौकरियों का सृजन होगा। मुख्य बिंदु 2023 तक भारत में प्रौद्योगिकी क्षेत्र में 30 लाख नौकरियों के सृजन से भारत में प्रौद्योगिकी क्षेत्र में कर्मचारियों की संख्या 70 लाख के पार पहुँचRead More...

दक्षिण कोरिया ने लांच किया विश्व का पहला राष्ट्रीय 5G नेटवर्क

दक्षिण कोरिया ने विश्व का पहला राष्ट्रीय 5G नेटवर्क लांच कर दिया है। 5G नेटवर्क 4G के मुकाबले 20 गुणा अधिक तेज़ होगा। इस वर्ष सैमसंग और LG 5G के लिए अनुकूल डिवाइसेस लांच करेंगे, इनकी कीमत 4G डिवाइसेस से अधिक होने के आसार हैं। इस वर्ष के अंत तक दक्षिण कोरिया में 3 मिलियन से अधिक लोग 5G से जुड़ जायेंगे। 5G से न केवल स्मार्टफ़ोनRead More...

नए सैटेलाइट सिस्टम के लांच के बाद रोसकॉसमॉस इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करेगा

रूस की सरकारी अन्तरिक्ष कारपोरेशन (रोसकॉसमॉस) ने “मैराथन” नामक सैटेलाइट सिस्टम के लांच के साथ इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स के क्षेत्र में कार्य करने की योजना तैयार की है। यह नया सैटेलाइट सिस्टम रूस के “स्फीयर” सैटेलाइट समूह का हिस्सा होगा, इसका निर्माण 2026 तक पूरा हो जायेगा। हालांकि मैराथन सिस्टम के कुल उपग्रहों कीRead More...

सरकारी निम्न फ्रीक्वेंसी रेंज में काम करने वाली डिवाइसेस को लाइसेंसिंग से दी छूट

दूरसंचार विभाग ने निम्न फ्रीक्वेंसी में काम करने वाली डिवाइसेस जैसे ब्लूटूथ, वायरलेस चार्जर, इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स (IoT) उत्पाद तथा मेडिकल डिवाइसेस इत्यादि को लाइसेंसिंग से छूट दी है। इसका उद्देश्य IoT टेक्नोलॉजी, मशीन-टू-मशीन कम्युनिकेशन जैसी आधुनिक टेक्नोलॉजी में व्यापारिक गतिविधियों को बढ़ावा देना है। मुख्यRead More...