ट्रिपल तलाक

इस श्रेणी में ट्रिपल तलाक से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

भारत में 1 अगस्त को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस मनाया जा रहा है

ट्रिपल तलाक को अपराध घोषित करने वाले कानून की पहली वर्षगांठ के अवसर पर, उस दिन को देश भर में मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप में घोषित किया गया है। ट्रिपल तलाक विधेयक को लोकसभा में 25 जुलाई, 2020 को पारित किया गया था। इसके अलावा, यह राज्य सभा द्वारा 30 जुलाई को पारित किया गया था। अंत में, राष्ट्रपति से मंज़ूरी मिलनेRead More...

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्रिपल तलाक बिल पर हस्ताक्षर किये

राष्ट्रपति रामनाथ ने कोविंद ने  मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) बिल पर हस्ताक्षर कर दिए हैं, राष्ट्रपति ने गाम्बिया दौरे से लौटने के बाद इस बिल पर हस्ताक्षर किये। हाल ही में राज्यसभा ने ट्रिपल तलाक विधेयक को पारित कर दिया था, इस बिल के पक्ष में 99 वोट पड़े, जबकि इसके विरोध में 84 वोट पड़े। राष्ट्रपति की मंज़ूरीRead More...

राज्यसभा ने पारित किया ट्रिपल तलाक बिल

हाल ही में राज्यसभा ने ट्रिपल तलाक विधेयक को पारित कर दिया है, इस बिल के पक्ष में 99 वोट पड़े, जबकि इसके विरोध में 84 वोट पड़े। अब इस बिल को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मंज़ूरी के लिए भेजा जायेगा, राष्ट्रपति की मंज़ूरी मिलने के बाद इसके सरकार द्वारा अधिसूचित कर दिया जायेगा। यह विधेयक फरवरी में लागू किये गये अध्यादेशRead More...

लोक सभा ने पारित किया ट्रिपल तलाक पर बिल

हाल ही में लोकसभा ने ट्रिपल तलाक पर मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार) संरक्षण  बिल, 2019 पारित किया। इस बिल को लोकसभा में केन्द्रीय विधि मंत्री रवि शंकर ने रखा था। इस बिल के पक्ष में 303 वोट पड़े। मुख्य बिंदु ट्रिपल तलाक के लिए आरोपी पुरुष को तीन साल कारावास की सजा दी जा सकती है। इसका दुरूपयोग रोकने के लिए जमानत की व्यवस्थाRead More...

लोकसभा में प्रस्तुत किया गया ट्रिपल तलाक बिल

हाल ही में लोकसभा ने ट्रिपल तलाक पर मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार) संरक्षण  बिल प्रस्तुत किया गया। विपक्षी दलों द्वारा इस बिल पर असहमति प्रकट की गयी है। मुख्य बिंदु ट्रिपल तलाक के लिए आरोपी पुरुष को तीन साल कारावास की सजा दी जा सकती है। इसका दुरूपयोग रोकने के लिए जमानत की व्यवस्था भी है। ट्रिपल तलाक का मामला तभीRead More...