भारत-अमेरिका व्यापारिक सम्बन्ध

इस श्रेणी में भारत-अमेरिका व्यापारिक सम्बन्ध से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

अमेरिका 2019-20 में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बना

केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका वित्तीय वर्ष 2019-20 के दौरान भारत का शीर्ष व्यापारिक भागीदार बना हुआ है। यह लगातार दूसरा वित्तीय वर्ष है जब संयुक्त राज्य अमेरिका भारत का शीर्ष व्यापार भागीदार बन गया है (वित्तीय वर्ष 2018-19 में संयुक्त राज्य अमेरिका भारत के शीर्षRead More...

अमेरिका बना भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार

अमेरिका, चीन को पछाड़ कर भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार बन गया है। 2013-14 से लेकर 2017-18 तक चीन भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार था। मुख्य बिंदु वाणिज्य मंत्रालय के डाटा के अनुसार वित्त वर्ष 2018-19 में भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय व्यापार लगभग 88 अरब डॉलर रहा। इसी अवधि में जबकि चीन के साथ भारत का द्विपक्षीय व्यापारRead More...

भारत और अमेरिका के बीच किया जायेगा ‘टाइगर ट्राइंफ’ अभ्यास का आयोजन

अमेरिका और भारत के बीच त्रि-सेवा अभ्यास ‘टाइगर ट्राइंफ’ का आयोजन आंध्र प्रदेश में किया जायेगा। इस अभ्यास का आयोजन आंध्र प्रदेश के विशाखापत्तनम तथा काकीनाडा में किया जायेगा। इसका आयोजन 13 से 21 नवम्बर, 2019 के दौरान किया जायेगा। इस अभ्यास में भारत की ओर से लगभग 1200 सैनिक हिस्सा लेंगे, जबकि अमेरिका की ओर से लगभग 500 सैनिकRead More...

अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी फोरम ने प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात की

अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी फोरम ने नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की। इस मुलाकात के दौरान इज़ ऑफ़ डूइंग बिज़नेस सुनिश्चित करने पर चर्चा की गयी। इस बैठक में अमेरिकी उद्योगपतियों ने भारतीय अर्थव्यवस्था पर अपना भरोसा दिखाया। यह मुलाकात एक ऐसे समय में हुई है जब विश्व बैंक तथा अंतर्राष्ट्रीयRead More...

जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरेंस : मुख्य बिंदु

जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ़ प्रेफेरेंस (GSP) की स्थापना 1976 में व्यापार अधिनियम, 1974 के तहत की गयी थी। यह अमेरिका का एक व्यापारिक कार्यक्रम है। इसका उद्देश्य विकासशील देशों के आर्थिक विकास को बढ़ावा देना है। इसके तहत 129 देशों के 4,800 उत्पादों को निशुल्क प्रवेश की सुविधा प्रदान की जाती है। हाल ही में 25 प्रभावशाली कानून निर्माताओंRead More...