राष्ट्रीय हरित अधिकरण

इस श्रेणी में राष्ट्रीय हरित अधिकरण से संबन्धित हिन्दी भाषा के करेंट अफेयर्स (समाचार सारांश) एवं समसामयिक घटनाक्रम का SSC, Railways, RAS/RPSC, BPSC, MPPSC, JPSC, HPSC, UPPSC, UKPSC एवं अन्य प्रतियोगिता परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण समाचारों का संग्रह किया गया है।

राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने भूमिगत जल की अवैध निकासी पर रोक लगाने के लिए समिति का गठन किया

राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने भूमिगत जल की अवैध निकासी पर रोक लगाने के लिए समिति का गठन किया है। इन सन्दर्भ में शैलेश सिंह नामक व्यक्ति द्वारा याचिका दायर की गयी थी। इस समिति में केन्द्रीय पर्यावरण व वन मंत्रालय, जल संसाधन मंत्रालय, केन्द्रीय भूमिगत जल बोर्ड, राष्ट्रीय रिमोट सेंसिंग केंद्र, राष्ट्रीय जल विज्ञानRead More...

राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने जैव विविधता प्रबंधन समितियों के गठन के सम्बन्ध में केन्द्रीय पर्यावरण व वन मंत्रालय से रिपोर्ट मांगी

राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने जैव विविधता प्रबंधन समितियों के गठन के सम्बन्ध में केन्द्रीय पर्यावरण व वन मंत्रालय से रिपोर्ट मांगी है। यह रिपोर्ट तीन महीने के भीतर सबमिट की जानी है। चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली खंड पीठ ने राज्यों को एफिडेविट फाइल करके समितियों की स्थापना न करनेRead More...

राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) ने यमुना अपरदन मामले की जांच के लिए समिति का गठन किया

जस्टिस आदर्श कुमार गोएल की अध्यक्षता में राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल की पीठ ने यमुना के मैदानी इलाके में अपरदन के मामले की जांच के लिए समिति का गठन किया है। इस समिति में हरियाणा सिंचाई व जल संसाधन विभाग के प्रधान सचिव, हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के सदस्य सचिव तथा खान व भू-गर्भ विभाग के निदेशक शामिलRead More...

ध्वनी प्रदूषण को रोकने के लिए उपाय करने के लिए राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने निर्देश दिए

हाल ही में राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल ने केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को ध्वनी प्रदूषण मानचित्र तथा ध्वनी प्रदूषण के समाधान के लिए एक्शन प्लान बनाने का निर्देश दिया है। राष्ट्रीय हरित ट्रिब्यूनल के चेयरपर्सन जस्टिस आदर्श कुमार गोएल की अध्यक्षता वाली पीठ ने केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को ध्वनीRead More...

सर्वोच्च न्यायालय ने चारधाम परियोजना को मंज़ूरी दी

सर्वोच्च न्यायालय ने चारधाम परियोजना को मंज़ूरी दे दी है। इस परियोजना के तहत यमुनोत्री, गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ को आल-वेदर रोड से जोड़ा जायेगा। मुख्य बिंदु इन आल वेदर रोड का निर्माण पर्यावरण की दृष्टि से हिमालय के संवेदनशील क्षेत्रों में किया जाता है, राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) में इस परियोजना पर प्रश्नRead More...